Featured Post

एक लड़की भीगी भागी सी ...स्वर -अल्पना

गीतकार-मजरूह सुल्तानपुरी

Jan 26, 2017

सर्वलोकेषु रम्यं--'सारे जहाँ से अच्छा' गीत संस्कृत में ..

गणतंत्र दिवस की सभी भारतवासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ!

'सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मदीयं मदीयं '
संस्कृत अनुवाद द्वारा- श्री रंजन बेज़बरुआ जी
===================================
सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम् ।

’बुल्बुलाः’ हि नः सर्वे,

देशः सूनस्तबकम् , मदीयम् ॥

सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम् ।
१.पर्वतो हि सर्वोच्चः
विहायसः शिरश्चुम्बी ।
स्वप्रहरिणः शुवीराः
सुसैनिका अस्मदीयाः, मदीयाः ॥

सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम् ।

2.क्रोडे च क्रीडारताः
नद्यः सहस्रधाराः

सपुष्टप्राणो:  सनीरैः
स्वर्ग्यमिदं मुदितं मुदितम् ॥

सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम् ।

3.धर्मास्य में  न शिक्षा
वैरिता न विधेया

’हिन्दी’ हि वयं हिन्दी’ हि वयं ।
’हिन्दी’ हि वयं स्वभूमिः,
भारतमस्मदीयं मदीयम् ॥

सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम् ।
बुल्बुलाः हि नः सर्वे,
देशः सूनस्तबकम् , मदीयम् ॥

सर्वलोकेषु रम्यं हि भारतमस्मादीयं, मदीयम्
======================

सारे जहाँ से...इस गीत को संस्कृत में सुनिये -
==========================================
==========================================

Mp3 Download or Play

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा ।
हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलसितां हमारा ।।

गुरबत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में ।
समझो वहीं हमें भी, दिल हो जहाँ हमारा ।। सारे...

परबत वो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमाँ का ।
वो संतरी हमारा, वो पासबाँ हमारा ।। सारे...

गोदी में खेलती हैं, जिसकी हज़ारों नदियाँ ।
गुलशन है जिसके दम से, रश्क-ए-जिनां हमारा ।।सारे....

ऐ आब-ए-रौंद-ए-गंगा! वो दिन है याद तुझको ।
उतरा तेरे किनारे, जब कारवां हमारा ।। सारे...

मजहब नहीं सिखाता, आपस में बैर रखना ।
हिन्दी हैं हम वतन हैं, हिन्दोस्तां हमारा ।। सारे...

यूनान, मिस्र, रोमां, सब मिट गए जहाँ से ।
अब तक मगर है बाकी, नाम-ओ-निशां हमारा ।।सारे...

कुछ बात है कि हस्ती, मिटती नहीं हमारी ।
सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा ।। सारे...

'इक़बाल' कोई मरहूम, अपना नहीं जहाँ में ।
मालूम क्या किसी को, दर्द-ए-निहां हमारा ।। सारे...

इस गीत को प्रसिद्ध शायर मुहम्मद इक़बाल ने १९०५ में लिखा था और सबसे पहले सरकारी कालेज, लाहौर में पढ़कर सुनाया था। इक़बाल की यह रचना बंग-ए-दारा में शामिल है। उस समय इक़बाल लाहौर के सरकारी कालेज में व्याख्याता थे। उन्हें लाला हरदयाल ने एक सम्मेलन की अध्यक्षता करने का निमंत्रण दिया। इक़बाल ने भाषण देने के बजाय यह ग़ज़ल पूरी उमंग से गाकर सुनाई। यह ग़ज़ल हिन्दुस्तान की तारीफ़ में लिखी गई है और अलग-अलग सम्प्रदायों के लोगों के बीच भाई-चारे की भावना बढ़ाने को प्रोत्साहित करती है। १९५० के दशक में सितार-वादक पण्डित रवि शंकर ने इसे सुर-बद्ध किया।

[विवरण विकिपीडिया से साभार ]

Jan 25, 2017

हर दिल जो प्यार करेगा ..फिल्म-संगम

फ़िल्म- संगम [१९६४]
गीतकार- शैलेन्द्र
संगीतकार-- शंकर -जयकिशन
मूल गायक - मुकेश ,लता और महेंद्र कपूर
Mp3 Play or Download
=============================

=============================
कवर गायक - चेतन जी ,सफ़ीर और अल्पना
-------------------------------------------------
हर दिल जो प्यार करेगा वो गाना गायेगा
दीवाना सैंकड़ों में पहचाना जायेगा
दीवाना   ...

१.आप हमारे दिल को चुरा के आँख चुराये जाते हैं
ये इक तरफ़ा  रसम-ए-वफ़ा हम फिर भी निभाये जाते हैं
चाहत का दस्तूर है लेकिन, आप को ही मालूम नहीं,
जिस महफ़िल में शमा हो, परवाना जायेगा
दीवाना सैंकड़ों में पहचाना जायेगा

2.भूली बिसरी यादें मेरी हँसते गाते बचपन की
याद दिला के चली आतीं हैं, नींद चुराने नैनन की
अब कह दूँगी, करते करते, कितने सावन बीत गये
जाने कब इन आँखों का शरमाना जायेगा
दीवाना सैंकड़ों में  पहचाना जायेगा

3.अपनी अपनी सब ने कह ली, लेकिन हम चुप चाप रहे
दर्द पराया जिसको प्यारा वो क्या अपनी बात कहे
खामोशी  का ये अफ़साना रह जायेगा बाद मेरे
अपना के हर किसी को बेगाना जायेगा
दीवाना सैंकड़ों में   पहचाना जायेगा

==============

Jan 24, 2017

ऐ मेरी ज़िन्दगी तू नहीं अजनबी-फिल्म- प्यार का सपना [१९६९]


फिल्म- प्यार का सपना [१९६९]
गीतकार- राजेंद्र कृष्ण 
संगीतकार- चित्रगुप्त  
मूल गायक -लता  और रफ़ी 
=====================================
=====================================
कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
---------------------------------------------
गीत के बोल -
--------------

ऐ मेरी ज़िन्दगी तू नहीं अजनबी
तुझको देखा है पहले कभी
      ऐ मेरे हमसफ़र मुझको पहचान ले मैं  वो ही हूँ वो ही \-२

१.तू मेरे पास रहकर भी क्यूँ दूर है
इसलिएकि तुझे खुद ये मंज़ूर है
मैं तेरे पास हूँ मैं तेरे साथ थी
मैं वो ही हूँ वो ही ...
      2. दिल में पड़ती तो हैं तेरी परछाइयाँ \-२
दूर होती नहीं फिर भी तनहाइयाँ \-२
       दिल के आईने में देख ले झाँक कर
      मैं वो ही हूँ वो ही ...

ऐ मेरी ज़िन्दगी तू नहीं अजनबी

3.तू वो ही है जो मेरे ख़्यालों में थी
मैं मदिरा हूँ जो तेरे ख़्यालों में थी
कौन हूँ क्या हूँ अब तो पहचान ले
मैं वो ही हूँ वो ही ...
       
       ऐ मेरी ज़िन्दगी तू नहीं अजनबी,तुझको देखा है पहले कभी
      ऐ मेरे हमसफ़र मुझको पहचान ले मैं  वो ही हूँ वो ही \-२
============================================

Jan 23, 2017

आज कल तेरे मेरे ...फिल्म-ब्रह्मचारी

Song-आज कल तेरे मेरे
--------------------------
फिल्म- ब्रह्मचारी [१९६८]
गीतकार- शैलेन्द्र
संगीतकार- शंकर-जयकिशन
मूल गायक -सुमन कल्यानपुरी  और रफ़ी
=====================================

============================================

=============================================

कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
---------------------------------------------
MP3 Download or Play

गीत के बोल -
--------------

आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे हर ज़बान पर
सबको मालूम है और सबको खबर हो गई

1.हमने तो प्यार में ऐसा काम कर लिया
प्यार की राह में अपना नाम कर लिया
आजकल तेरे मेरे प्यार...

2.दो बदन एक दिल एक जान हो गए
मंज़िलें एक हुईं हमसफ़र बन गए
आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे...

3.क्यूँ भला हम डरें दिल के मालिक हैं हम
हर जनम में तुझे अपना माना सनम
आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे...

========================
========================

Jan 22, 2017

आपने याद दिलाया तो मुझे ....फिल्म- आरती [१९६२ ]

फिल्म- आरती [१९६२ ]
गीतकार- मजरूह सुल्तानपुरी 
संगीतकार-रोशन 
मूल गायक -लता  और रफ़ी 
============================================
============================================
कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
MP3 Download or Play --
-------------------------------------------

गीत के बोल -
--------------
आपने याद दिलाया तो मुझे याद आया..
के मेरे दिल पे पढ़ा था कोई ग़म का साया
आपने याद दिलाया

1.मै भी क्या चीज़ हूँ  खाया था, कभी तीर कोई
दर्द अब जा के उठा, चोट लगे देर हुयी
तुमको हमदर्द जो पाया, तो मुझे याद आया
के मेरे दिल पे पढ़ा था कोई ग़म का साया
आपने याद दिलाया

2.मै ज़मीन पर हू ना समझा, ना परखना चाह
आसमान पर ये कदम, झूमके रखना चाह
आज जो सर को झुकाया, तो मुझे याद आया
के मेरे दिल पे पढ़ा था कोई ग़म का साया
आपने याद दिलाया

3.मैंने  भी सोच लिया, साथ निभाने के लिए
दूर तक आऊँगी  मैं, तुमको मनाने के लिए
दिल ने एहसास दिलाया, तो मुझे याद आया

आपने याद दिलाया, तो मुझे याद आया..

============================

Jan 21, 2017

ज़मीं से हमें आसमां पर ....Film-Adalat [1958]


फिल्म- अदालत [१९५८]
गीतकार-राजेंद्र किशन
संगीतकार-मदन मोहन
मूल गायक -आशा भोसले और रफ़ी
============================================

============================================
कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
---------------------------------------------

=======================
गीत के बोल -
-------------
ज़मीं से हमें आसमां पर, बिठा के गिरा तो ना दोगे
अगर हम ये पूछें के दिल में, बसा के भूला तो ना दोगे

१.ऐ रात इस वक्त आँचल में तेरे जितने भी हैं ये सितारें
जो दे दे तू मुझको, तो फिर मैं लूटा दू, किसी की नज़र पे ये सारे

कहो के ये रंगीन सपनें, सजा के मिटा तो ना दोगे
अगर हम ये पूछें कि दिल में, बसा के भूला तो ना दोगे

2.तुम्हारे सहारे निकल तो पड़े हैं, है मंज़िल कहाँ दिल न जाने
जो तुम साथ दोगे, तो आएगी इक दिन, मंज़िल गले से लगाने

इतना तो दिल को यकीं है, हमें तुम दगा तो ना दोगे
अगर हम ये पूछें कि दिल में, बसा के भूला तो ना दोगे

ज़मीं से हमें आसमां पर, बिठा के गिरा तो ना दोगे

==========================================

Jan 20, 2017

आते -जाते हँसते -गाते

फ़िल्म-मैंने प्यार किया [१९८९]
संगीतकार: राम लक्ष्मण
गीतकार : देव कोहली
मूल गायक: लता मंगेशकर, S P Balasubramaniam
===============================




--------------------------------------------------

कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
===============================

गीत के बोल
----------------
जाते, हँसते गाते
सोचा था मैं ने मन में कई बार
वो पहली नज़र, हलका सा असर
करता है क्यों दिल को बेक़रार
रुक के चलना, चल के रुकना
ना जाने तुम्हें है किस का इंतज़ार

तेरा वो यकीं, कहीं मैं तो नहीं
लगता है यही क्यों मुझको बार बार
यही सच है, शायद मैं ने प्यार किया

आते जाते, हँसते गाते
सोचा था मैं ने मन में कई बार
होंठों की कली कुछ और खिली
ये दिल पे हुआ है किसका इख़्तियार
तुम कौन हो, बतला तो दो
क्यों करने लगी मैं तुमपे ऐतबार

खामोश रहूँ य मैं कह दूँ
या कर लूँ मैं चुपके से ये स्वीकार
यही सच है, शायद मैं ने प्यार किया
हाँ हाँ, तुमसे, मैं ने प्यार किया
=======================

Jan 19, 2017

जब आती होगी याद मेरी--फिल्म-फांसी

फिल्म-फांसी
गीतकार- आनंद बक्षी
संगीतकार-लक्ष्मीकांत -प्यारेलाल
मूल गायक-मो. रफ़ी और सुलक्षणा पंडित
===========================


===========================
कवर गायक - सफ़ीर और अल्पना
MP3 Download or play here
---------------------------------------------

गीत के बोल -
--------------------
जब आती होगी याद मेरी -2
तेरा दिल तो मचलता  होगा

तू भी तो मुझे. मिलने को -2
दिन रात तड़पता होगा .
जब आती होगी याद मेरी
हाय जब आती होगी याद मेरी ..

१....लिखे तो होंगे ख़त मुझको
पर डाक में न डाले होंगे के मुझको दिखाने के लिए तूने सब वो संभाले होंगे

बरसों न मेरा ख़त पाकर तू ठंडी आहें तो .भरता हो~~गा...
जब आती होगी याद मेरी...हाय जब आती होगी याद मेरी .

2.ख़यालों में तू मुझको लाके करता तो होगा दिलजोई
 करता तो होगा दिलजो~ई
ये भी तो कभी सोचता हो.गा -2
लेजाये न मुझे और को~ई
किसी और की  होने के डर  से तेरा दिल भी  धड़कता होगा

जब आती होगी याद मेरी -2.
तेरा दिल तो मचलता  होगा

तू भी तो मुझे मिलने को -2
दिन रात तड़पता होगा .
[एक साथ ]जब आती होगी याद मेरी हाय जब आती होगी याद मेरी I

=========================================
=========================================

Jan 18, 2017

मेरी साँसों को जो महका रही है

फिल्म- बदलते रिश्ते   [१९७८ ]
गीतकार : आनंद बक्षी
संगीतकार: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
मूल गायक- महेंद्र कपूर  और लता

==============


कवर गायक- सफ़ीर और अल्पना
MP 3 download or play
===============
गीत के बोल
-------------
मेरी साँसों को जो महका रही है
मेरी साँसों को जो महका रही है
ये पहले प्यार की खुशबू
तेरी साँसों से शायद आ रही है

१.शुरू ये सिलसिला तो उसी दिन से हुआ था
अचानक तूने जिस दिन मुझे यूँ ही छुआ था
लहर जागी जो उस पल तनबदन में
वो मन को आज भी बहका रही है

2.बहुत तरसा है ये दिल तेरे सपने सज़ा के
ये दिल की बात सुन ले, मेरी बाहों में आके
जगाकर अनोखी प्यास मन में
ये मीठी आग जो दहका रही है

3.ये आँखे बोलती हैं, जो हम ना बोल पाए
दबी वो प्यास मन की नज़र में झिलमिलाए
होठों पे तेरे हल्की सी हँसी है
मेरी धड़कन बहकती जा रही है
ये पहले प्यार की खुशबू .....मेरी साँसों को जो...

======================

Jan 17, 2017

जहाँ मैं जाती हूँ -फिल्म-चोरी चोरी

फिल्म-चोरी चोरी  [१९५६]
गीतकार : शैलेन्द्र
संगीतकार: शंकर -जयकिशन
मूल गायक- मन्ना डे और लता

==============

 कवर गायक- सफ़ीर और अल्पना
MP3 Download or Play Here
===============
गीत के बोल
-------------
जहाँ मैं जाती हूँ वहीं चले आते हो
चोरी-चोरी मेरे दिल में समाते हो
ये तो बताओ कि तुम, मेरे कौन हो

दिल से दिल की लगन की ये बात है
प्यार की राह जतन की ये बात है
मुझसे न पूछो कि तुम, मेरे कौन हो

१.मैं तो शोर मचाऊँगी, शोर मचाऊँगी
करनी तुम्हारी सबको बताऊँगी
खैर जो चाहो चले जाओ मेरे दर से
छोड़ो ये आना-जाना दिल की डगर से
ये तो बताओ...

२.मैंने क्या बुरा किया है, क्या बुरा किया है
दिल दे कर ही दिल ले लिया है
किसी बड़े ज्ञानी-ध्यानी को बुलाओ
अभी अभी यहीं फ़ैसला कराओ
मुझसे न पूछो...

३.दिल ही जब हुए दीवाने, जब हुए दीवाने
कहना हमारा ,अब कौन माने

जहाँ मैं जाती हूँ वहीँ चले आते हो
चोरी-चोरी मेरे दिल में समाते हो
ये तो बताओ कि तुम, मेरे कौन हो
हमसे न पूछो के मेरे कौन हो I
======================
======================

Jan 16, 2017

आ जा के इंतज़ार में-फिल्म : हलाकू

फिल्म-हलाकू [१९५६]
गीतकार-शैलेन्द्र
संगीतकार: शंकर -जयकिशन
मूल गायक-रफ़ी और लता

==============


 कवर गायक- Safeer and Alpana
Download or Play Mp3 here
===============
गीत के बोल
---------------
आ जा के  इंतज़ार में, जाने को है बहार भी
तेरे बग़ैर ज़िंदगी, दर्द बनके रह गई

१.अरमाँ लिए बैठे हैं हम, सीने में है तेरा-ही ग़म
तेरे दिल से प्यार की वो तड़प किधर गई
आ जा के  इंतज़ार में…

2.दिल की सदा पे ऐ सनम, बढ़ते गए मेरे क़दम
अब तो चाहे जो भी हो, दिल तुझे मैं दे चुकी
आजा के  इंतज़ार में …

Jan 15, 2017

तुम जो हुए मेरे हमसफ़र...

फिल्म : 12 O'clock  [१९५८]
संगीतकार- ओ पी नय्यर
गीतकार : मजरूह सुल्तानपुरी
मूल गायक : मो.रफ़ी और गीता दत्त
--------------------
Download / Play mp3
-------------------


कवर गायक -Safeer & Alpana
--------------
गीत के बोल :-
---------------
तुम जो हुए मेरे हमसफ़र, रस्ते बदल गये
लाखों दिये मेरे प्यार की, राहों मे जल गये

१.आया मज़ा, लाया नशा, तेरे लबों की बहारों का रंग
मौसम जवाँ, साथी हसीं, उस पर नज़र के इशारों का रंग
जितने भी रंग थे, सब तेरी आँखों में ढल गये
लाखों दिये मेरे प्यार की, राहों मे जल गये ...

2.क्या मंज़िलें क्या कारवाँ, बाहों में तेरी है सारा जहाँ
आ जानेजाँ, चल दे वहाँ, मिलते जहाँ पे ज़मीं आसमाँ
मंज़िल से भी कहीं दूर हम, आगे निकल गये
लाखों दिये मेरे प्यार की, राहों मे जल गये ...

तुम जो हुए मेरे हमसफ़र, रस्ते बदल गये
========================
================

Jan 14, 2017

सुन सुन सुन ज़ालिमा..Film-Aar Paar

फिल्म : आर पार [१९५४]
संगीतकार- ओ पी नय्यर
गीतकार : मजरूह सुल्तानपुरी
मूल गायक : मो.रफ़ी और गीता दत्त
--------------------
Download / Play MP3
-------------------



कवर गायक -सफ़ीर और अल्पना
--------------
गीत के बोल :-
---------------
सुन सुन सुन सुन ज़ालिमा, प्यार हमको तुमसे हो गया
दिल से मिला ले दिल मेरा, तुझको मेरे प्यार की क़सम

जा जा जा जा बेवफा,कैसा प्यार कैसी प्रीत रे
तू ना किसी का मीत रे,झूठ तेरे प्यार की कसम
सुन सुन सुन सुन ज़ालिमा
जा जा जा जा बेवफा

१.प्यार की नज़र से दूर, यूँ न ज़िंदगी गुज़ार
हुस्न तू है, इश्क़ मैं, कर भी ले नज़र को चार
प्यार की नज़र से दूर, यूँ न ज़िंदगी गुज़ार
हुस्न तू है, इश्क़ मैं, कर भी ले नज़र को चार
चार मैं नज़र करूँ और फिर हुज़ूर से
पास यूँ न आईए, बात कीजे दूर से
जा जा जा जा बेवफा
कैसा प्यार कैसी प्रीत रे  ,तू ना किसी का मीत रे
झूठ तेरे प्यार की कसम ,सुन सुन सुन सुन ज़ालिमा
जा जा जा जा बेवफा...........

२.दूर कब तलक रहूँ, फूल तू है रंग मैं
मैं तो हूँ तेरे लिये, डोर तू पतंग मैं
कट गई पतंग जी, डोर अब न डालिये
और किसी के सामने जा के दिल उछालिये
सुन सुन सुन सुन ज़ालिमा
जा जा जा जा बेवफा

३.बात रह न जाये फिर, वक़्त ये गुज़र न जाये
मेरे प्यार का ये हार, टूट कर बिखर न जाये
प्यार-प्यार कह के तू, दिल मेरा न लूट रे
कह रहा है तू जो बात, हो ना झूठ-मूठ रे
जा जा जा जा बेवफा,कैसा प्यार कैसी प्रीत रे
तू ना किसी का मीत रे,झूठ तेरे प्यार की कसम
सुन सुन सुन सुन ज़ालिमा,जा जा जा जा बेवफा..
========================
====================

Jan 13, 2017

रिमझिम के तराने लेके आई बरसात...

फिल्म : काला बाज़ार (१९६०)
संगीतकार-सचिन देव बर्मन
गीतकार : शैलेन्द्र
मूल गायक : मो.रफ़ी और  गीता दत्त
--------------------
Download / Play mp3

---------------------

-------------------
कवर गायक -सफ़ीर  और अल्पना
--------------
गीत के बोल :-
---------------
रिमझिम के तराने लेके आई बरसात
याद आए किसी से वो पहली मुलाक़ात
रिमझिम के तराने लेके आई बरसात

१.भीगे तन-मन, पड़े रस की फुहार
प्यार का संदेसा लाई बरखा बहार
मैं ना बोलूँ, आँखें करें अँखियों से बात
रिमझिम के तराने लेके …

2.सुनके मतवाले काले बादलों का शोर
रूम-झूम घूम-घूम नाचे मन का मोर
सपनों का साथी चल रहा है मेरे साथ
रिमझिम के तराने लेके …

3.जब मिलते हो तुम क्यूँ छिड़ते हैं दिल के तार
मिलने को तुमसे मैं क्यूँ था बेक़रार
रह जाती है क्यूँ होंठों तक आके दिल की बात
रिमझिम के तराने लेके .................
========================

Jan 12, 2017

हम आपकी आँखों में....फिल्म -प्यासा

फिल्म : प्यासा (1957)
संगीतकार : एस.डी.बर्मन
गीतकार : साहिर लुधियानवी
मूल गायक : मो.रफ़ी और  गीता दत्त
--------------------
Download / Play mp3
-------------------

कवर गायक -सफ़ीर  और अल्पना


 गीत के बोल :-
---------------
हम आपकी आँखों में, इस दिल को बसा दें तो
हम मूँद के पलकों को, इस दिल को सज़ा दें तो

१.इन ज़ुल्फ़ों में गूँथेंगे हम फूल मुहब्बत के
ज़ुल्फ़ों को झटक कर हम ये फूल गिरा दें तो
हम आपकी आँखों में...

2.हम आपको ख्वाबों में ला, ला के सतायेंगे
हम आपकी आँखों से नींदें ही उड़ा दें तो
हम आपकी आँखों में...

3.हम आपके क़दमों पर गिर जायेंगे ग़श खाकर
इस पर भी न हम अपने आंचल की हवा दें तो
हम आपकी आँखों में...
========================

Jan 11, 2017

आँखों ही आँखों में इशारा--सी.आई.डी.

फिल्म-सी.आई.डी. (1956)
संगीतकार : ओ.पी.नैय्यर
गीतकार : जां निसार अख्तर
मूल गायक : मो.रफ़ी और गीता दत्त

Download or  play mp3

कवर संस्करण : सफ़ीर  और अल्पना


 Lyrics-
------------
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में..

1.गाते हो गीत क्यूँ, दिल पे क्यूँ हाथ है
खोए हो किस लिये, ऐसी क्या बात है
ये हाल कब से तुम्हारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में........

2.चलते हो झूम के, बदली है चाल भी
नैंनों में रंग है, बिखरे हैं बाल भी
किस दिलरुबा का नज़ारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में..............

3.अब ना वो ज़ोर है, अब ना वो शोर है
हमको है सब पता, दिल में क्या चोर है
ये चोर कैसे गंवारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में..........

4.कैसा ये प्यार है, कैसा ये नाज़ है
हम भी तो कुछ सुनें, हमसे क्या राज़ है
अच्छा तो ये दिल हमारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया

आँखों ही आँखों में इशारा हो गया
बैठे-बैठे जीने का सहारा हो गया
आँखों ही आँखों में............
=======================

Jan 10, 2017

ऐ दिल है मुश्किल ...

फिल्म-सी.आई.डी. (1956)
संगीतकार : ओ.पी.नैय्यर
गीतकार : मजरूह सुल्तानपुरी
मूल गायक : मो.रफ़ी & गीता दत्त
कवर संस्करण -सफ़ीर  और अल्पना

Download or Play here MP3

=============


 ============
गीत के बोल
-----------------
ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ
ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ-2


1.कहीं बिल्डिंग, कहीं ट्रामे, कहीं मोटर, कहीं मिल
मिलता है यहाँ सब कुछ, इक मिलता नहीं दिल
कहीं बिल्डिंग, कहीं ट्रामे, कहीं मोटर, कहीं मिल
मिलता है यहाँ सब कुछ, इक मिलता नहीं दिल
इन्साँ का नहीं कहीं नाम-ओ-निशाँ
ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ
ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ,ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ

2.कहीं सट्टा, कहीं पत्ता, कहीं चोरी, कहीं रेस
कहीं डाका, कहीं फाँका, कहीं ठोकर, कहीं ठेस
कहीं सट्टा, कहीं पत्ता, कहीं चोरी, कहीं रेस
कहीं डाका, कहीं फाँका, कहीं ठोकर, कहीं ठेस
बेकारों के हैं कई काम यहाँ
ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ

ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ,ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ

3.बेघर को आवारा यहाँ कहते हँस-हँस
खुद काटे गले सबके, कहे इसको बिज़नस
बेघर को आवारा यहाँ कहते हँस-हँस
खुद काटे गले सबके, कहे इसको बिज़नस
इक चीज़ के है कई नाम यहाँ

ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ,ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ

4.बुरा दुनिया को है कहता, ऐसा भोला तो ना बन
जो है करता, वो है भरता, है यहाँ का ये चलन
दादागिरी नहीं चलने की यहाँ
ये है बॉम्बे…
ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ
ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ,ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ

ऐ दिल है आसाँ जीना यहाँ
सुनो मिस्टर, सुनो बन्धु
ये है बॉम्बे मेरी जाँ
ऐ दिल है मुश्किल जीना यहाँ,ज़रा हट के, ज़रा बच के
ये है बॉम्बे मेरी जाँ
=============================
=======================