May 2, 2017

ये पर्बतों के दायरे -फ़िल्म-वासना [१९६८]

फ़िल्म-वासना [१९६८]
गीतकार-साहिर
संगीतकार-चित्रगुप्त
मूल गायक-लता और रफ़ी
------------------------------

गीत के बोल -:

ये पर्बतों के दायरे ये शाम का धुआँ
ऐसे में क्यों न छेड़ दें दिलों की दास्ताँ

ज़रा सी ज़ुल्फ़ खोल दो फ़िज़ा में इत्र घोल दो
नज़र जो बात कह चुकी वो बात मुँह से बोल दो
कि झूम उठे निगाह में बहार का समाँ
ये पर्बतों के दायरे ...

ये चुप भी एक सवाल है अजीब दिल का हाल है
हर इक ख़याल खो गया बस अब यही ख़याल है
कि फ़ासला न कुछ रहे हमारे दर्मियाँ
ये पर्बतों के दायरे ...

ये रूप रंग ये फबन चमक्ते चाँद सा बदन
बुरा न मानो तुम अगर तो चूम लूँ किरण किरण
कि आज हौसलों में है बला की गर्मियाँ
ये पर्बतों के दायरे ...

Cover by Safeer and Alpana
=============================================

==============================================

Mp3 Download or Play here
-------------------------------------
==============================================

No comments: